ऑनलाइन बेटिंग प्लेटफॉर्म हांगकांग हॉर्स बेटिंग

ऑनलाइन बेटिंग प्लेटफॉर्म हांगकांग हॉर्स बेटिंग

time:2021-10-27 12:07:45 कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह Views:4591

स्पोर्ट्सबुक पेआउट कैलकुलेटर ऑनलाइन बेटिंग प्लेटफॉर्म हांगकांग हॉर्स बेटिंग 10cric बेटिंग ऐप,betway अपडेट,लियोवेगैस इंडिया रिव्यू,lovebet एपीके डाउनलोड,lovebet लोगो,lovebet w88 m88,एक लॉटरी नंबर,बैकरेट क्रैकिंग सॉफ्टवेयर,नकद देने के लिए बैकरेट साइन अप करें,सट्टेबाजी करियर सह,कैसीनो 360 नो डिपॉजिट बोनस,कैसीनो रोयाले isaidub,क्लार्क ऑनलाइन,क्रिकेट जीके हिंदी में,डीएच फुटबॉल जर्सी,यूरोपीय कप अनुसूची वॉलपेपर,फ़ुटबॉल इंस्टेंट ऑड्स इंडेक्स,उत्पत्ति कैसीनो ऐप डाउनलोड,एचडी फुटबॉल वॉलपेपर,आईपीएल ऐप डाउनलोड,जैकपॉट क्या होता है,लाइव लाठी डीलर यूएसए,लाइव रूले पोकरस्टार,लॉटरी गीत,मल्टीप्ला ए 8 लवबेट,ऑनलाइन कैसीनो ओहने एनेल्डुंग,ऑनलाइन पोकर ऐप्स,पी पोकरस्टार,पोकर दा तवोलो,शायद सबसे अच्छी फुटबॉल वेबसाइट,शाही लड़ाई,रम्मी ऑफ़लाइन,स्लॉट मशीन ऐप,स्लॉट यूट्यूब आज,स्पोर्ट्सबुक ऐप,टेक्सास होल्डम चीट शीट,सबसे छोटा फुटबॉल सट्टेबाजी नेटवर्क,जुआ नेटवर्क क्या हैं,विश्व गेमिंग,इलेक्ट्रॉनिक खेल channel,कैसीनो के खेल http,गुवाहाटी,जोकर रिंगटोन,फुटबॉल ड्राइंग,बेटा टीवी,लॉटरी उदयपुर,स्पोर्ट्स ट्रेनिंग इन फिजिकल एजुकेशन .कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में न्‍यूनतम मजदूरी में 15-20 फीसदी का इजाफा हुआ है.
मुंबई : पिछले कुछ महीनों में कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में काम करने वाले वर्कर्स की न्‍यूनतम दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी है. ये रियल एस्‍टेट, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, सीमेंट, स्‍टील, सड़क एवं हाईवे और शहरी विकास परियोजनाओं में काम करते हैं. मजदूरी में बढ़ोतरी की वजह लेबरों की कमी है. कंपनियों ने अपने पुराने प्रोजेक्‍टों को पूरा करने के लिए काम की रफ्तार बढ़ाई है.

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में न्‍यूनतम मजदूरी में 15-20 फीसदी का इजाफा हुआ है. इस सेक्‍टर में करीब 5 करोड़ लोग काम करते हैं. मानव संसाधन प्रबंधन फर्म बेटरप्‍लेस के अनुमान के अनुसार, महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.

इसे भी पढ़ें : कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत?

मजदूरों को सबसे ज्‍यादा रोजगार कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में मिलता है. यह सेक्‍टर काफी कुछ असंगठित है. ज्‍यादातर वर्कर्स दिहाड़ी मजदूरी पर काम करते हैं. बेटरप्‍लेस के सीओओ सौरभ टंडन ने कहा कि लेबर की किल्‍लत के चलते कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में मजदूरी बढ़ी है. कंपन‍ियां तेजी से अपनी लंबित परियोजनाओं को पूरा करना चाहती हैं.

टॉप एग्‍जीक्‍यूटिव्‍ज के अनुसार, कुशल कामगारों की भारी किल्‍लत है. कारण है कि महामारी के बाद बड़ी संख्‍या में मजदूर अपने-अपने घरों से वापस नहीं लौटे हैं. रियल एस्‍टेट डेवलपर हीरानंदानी ग्रुप के एमडी निरंजन हीरानंदानी ने कहा कि हम बाहर से कुशल कारीगरों को लाने की कोशिश कर रहे हैं. ये ज्‍यादा मजदूरी की मांग करते हैं. इससे कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में औसत मजदूरी बढ़ी है. कुशल श्रमिकों की कमी सिर्फ रियल एस्‍टेट की समस्‍या नहीं है, बल्कि यह दिक्‍कत हर सेक्‍टर की है. बहुत कम लोगों के पास काम की कुशलता होती है.

इसे भी पढ़ें : सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर प्रोजेक्‍टों के बिल्‍डर केईसी इंटरनेशनल के सीईओ विमल केजरीवाल ने कहा कि फिटर और कारपेंटर जैसे कुशल कामगारों की मजदूरी 10-20 फीसदी बढ़ गई है. काम ज्‍यादा है. लंबित परियोजनाओं को पूरा करने का दबाव है. सभी साइटों पर पूरी क्षमता के साथ काम हो रहा है.

इंडस्‍ट्री के जानकार कहते हैं कि मध्‍यम और छोटे संस्‍थान जिनमें लॉकडाउन की शुरुआत में वर्कर्स को रोक पाने की क्षमता नहीं थी, उन्‍हें लेबरों को मंगाने में ज्‍यादा खर्च करना पड़ रहा है. कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर की बड़ी कंपनियों ने खाने-पीने और रहने की व्‍यवस्‍था उपलब्‍ध कराकर अपने वर्कर्स को बनाए रखा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

द‍िहाड़ी मजदूरीमजदूरी में इजाफान्‍यूनतम द‍िहाड़ीकंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टरलेबरों की किल्‍लत

ETPrime stories of the day

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Recent hit

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read
Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.
Electric vehicles

Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.

11 mins read
Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed
Environment

Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed

6 mins read

रोजगार संबंधी सेवाएं देने वाली वेबसाइट नौकरी डॉट कॉम के 'हायरिंग आउटलुक सर्वे' के अनुसार, नियोक्ता नए साल को लेकर आशावान लग रहे हैं.रोजगार संबंधी सेवाएं देने वाली वेबसाइट नौकरी डॉट कॉम के 'हायरिंग आउटलुक सर्वे' के अनुसार, नियोक्ता नए साल को लेकर आशावान लग रहे हैं.कोविड के बीच जानिए कहां मिल रही हैं नौकरियां

पहले चरण में 31,277 को जिलों का आवंटन हो गया है. इसमें से 15,933 टीचर सामान्‍य कैटेगरी के हैं. 8,513 अन्‍य पिछड़ा वर्ग, 6,615 अनुसूचित जाति और 215 अनुसूचित जनजाति के हैं.उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.कोविड से पहले के स्‍तर पर पहुंची कंपनियों में भर्ती : सर्वे

2020 के पहले छह महीनों में केपजेमिनी ने 9,500 लोगों की भर्ती की है. सेकेंड हाफ में उसकी 13,500 लोगों को रिक्रूट करने की योजना है.पहले चरण में 31,277 को जिलों का आवंटन हो गया है. इसमें से 15,933 टीचर सामान्‍य कैटेगरी के हैं. 8,513 अन्‍य पिछड़ा वर्ग, 6,615 अनुसूचित जाति और 215 अनुसूचित जनजाति के हैं.अगले साल 87% कंपनियां बढ़ाएंगी वेतन : सर्वे

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
ऑनलाइन माहजोंग रियल मनी जुआ खेल

पहले चरण में 31,277 को जिलों का आवंटन हो गया है. इसमें से 15,933 टीचर सामान्‍य कैटेगरी के हैं. 8,513 अन्‍य पिछड़ा वर्ग, 6,615 अनुसूचित जाति और 215 अनुसूचित जनजाति के हैं.

स्पोर्ट्स 52 वियर ट्रैक पैंट्स रिव्यू

नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.

चेस बोर्ड कैसे बनाते हैं

भारतीय शहरों में करीब 15 फीसदी कंपनियों की फरवरी से अप्रैल 2021 के बीच फ्रेशर्स को भर्ती करने की योजना है. लर्निंग सॉल्‍यूशंस फर्म टीम लीज एडटेक के सर्वे से इसका पता चलता है. टीमलीज एडटेक के सीईओ शांतनु रूज ने कहा कि कोरोना की महामारी के बावजूद कंपनियों के एजेंडे में फ्रेशर्स की हायरिंग है.

10cric प्रोमो कोड

रोजगार संबंधी सेवाएं देने वाली वेबसाइट नौकरी डॉट कॉम के 'हायरिंग आउटलुक सर्वे' के अनुसार, नियोक्ता नए साल को लेकर आशावान लग रहे हैं.

दिन लॉटरी परिणाम आज

देश में क्रिप्‍टोकरेंसी को लेकर स्थिति बहुत साफ नहीं है. कर्मचारी और कंपनियां दोनों इसे लेकर टैक्‍स के बारे में चिंतित हैं.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी